रूपा धीरू

रूपा धीरू

जन्मस्थान-मयनाकडेरी, सप्तरी, श्रीमती पूनम झा श्री अरूणकुमार झाक पुत्री।स्थायी पता- अञ्चल- सगरमाथा, जिल्ला- सिरहा। प्रथम प्रकाशित रचना-कोइली कानए, माटिसँ सिनेह (कविता), भगता बेङक देश-भ्रमण (कनक दीक्षितक पुस्तकक धीरेन्द्र प्रेमर्षिसँग मैथिलीमे सहअनुवाद, सङ्गीतसम्बन्धी कृति-राष्ट्रियगान, भोर, नेहक वएन, चेतना, प्रियतम हमर कमौआ (पहिल मैथिली सीडी), प्रेम भेल तरघुस्कीमे, सुरक्षित मातृत्व गीतमाला, सुखक सनेस। सम्पादन-पल्लव, मैथिली साहित्यिक मासिक पत्रिका, सम्पादन-सहयोग, हमर मैथिली पोथी (कक्षा , , , कक्षा 9-10 ऐच्छिक मैथिली विषय पाठ्यपुस्तकक भाषा सम्पादन), पल्लवमिथिला, प्रथम मैथिली इन्टरनेट पत्रिका, वि.सं. २०५९ माघ (साहित्यिक), सम्पादन-सहयोग।सम्‍पादक


अङ्गेजल काँट

नहि जानि बहिना किएक

आइ तोँ बड़ मोन पड़ि रहल छह

ताहूसँ बेसी तोहर

छहोछित्त कऽ देबवला

मर्मभेदी वाण।

 

बहिना तोँ कहने रहऽ हमरा

ऐँ हइ बहिना!

एहन काँट भरल गुलाबकेँ

अपन आँचरमे एना जे सहेजने छह

तोरा गड़ैत नहि छह?

तोँ उत्तर पएबाक लेल उत्सुक छलह

मुदा हम मौन भऽ गेल रही

तोँ मोनेमोन गजिरहल छलह।

हँ बहिना, ठीके

हमरो तोरेजकाँ

अपन जिनगीमे फूलेफूल सहेजबाक

सपना रहए

अगरएबाक लालसा रहए तोरेजकाँ

अपन जिनगीपर

मुदा की करबहक...!

मोन पाड़ह ने

छोटमे जखन अपनासभ

ती-ती पँचगोटिया खेलाइ

बेसी काल हमहीँ जीतैत रही

मुदा जिनगी जीबाक खेलमे

हम हारि गेल छी बहिना।

काँट काँटे होइ छै बहिना

गड़ै कतहु नहि

मुदा हम काँटेकेँ अङेजि लेने छी

मालिन जँ काँटकेँ

नइ अङेजतै बहिना तँ फेर गुलाब महमहएतै कोना?

0 टिप्पणी:

Post a Comment